सिंचाई घोटाले में बरी हुए अजित पवार

सिंचाई घोटाले में फंसे एनसीपी के नेता अजीत पवार को मुंबई हाई कोर्ट से क्लीन चिट मिल गई है। एसीबी यानी कि भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो का कहना है कि वीआईडीसी( VIDC) के चेयरमैन अजीत पवार को किसी भी दूसरी कंपनी के निष्पादन में पाए जाने वाले भ्रष्टाचार के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता है।

बता दें कि बीजेपी लगातार अजीत पवार को सिंचाई घोटाले मामले में निशाने पर लेती रही है। वहीं घटना 2014 की है जब कांग्रेस और एनसीपी के गठबंधन में अजित पवार उप मुख्यमंत्री बने थे और उनके ऊपर लगभग 70000 करोड रुपए के गबन का आरोप लगा था।

अजित पवार के ऊपर यह आरोप लगा था कि उन्होंने महाराष्ट्र में सिंचाई परियोजनाओं को गलत तरीके से मंजूरी दी थी। इतना ही नहीं सिंचाई विभाग से जुड़े अन्य नौ मुकदमों को भी बंद कर दिया गया है।