‘नागरिकता संशोधन बिल’ में मुसलमानों को क्यों शामिल नहीं किया? अमित शाह ने बताई वजह

लोकसभा में आज नागरिकता संशोधन विधेयक बिल पर चर्चा करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि जब देश का बंटवारा हुआ तब कांग्रेस ने धर्म को आधार बनाया। अगर कांग्रेस के द्वारा ऐसा नहीं किया गया होता तो आज उन्हें नागरिकता संशोधन बिल लाने की जरूरत नहीं पड़ती।

वहीं अमित शाह ने विपक्ष द्वारा लगाए जा रहे यह आरोप कि इस बिल में मुस्लिमों को शामिल क्यों नहीं किया गया? पर सफाई देते हुए कहा कि हमारे पड़ोसी मुल्कों में मुसलमानों के मूलभूत अधिकारों का साथ अन्याय और धार्मिक प्रताड़ना नहीं होता है इसलिए उनको इस बिल में शामिल नहीं किया गया है।

वहीं विपक्ष की तरफ से एमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी, TMC सांसद सौगत राय,कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी,शशि थरूर आदि नेताओं ने इस विधेयक को भारतीय संविधान, गणतंत्र और अल्पसंख्यकों के खिलाफ बताया।वहीं अमित शाह ने दावा किया कि अगर विपक्ष यह साबित कर दे कि नागरिकता संशोधन बिल गलत है तो उसे वापिस ले लिया जायेगा।