अजित पवार और भाजपा के बीच हो रही बातचीत को शरद पवार जानते थे!

महाराष्ट्र में जिस तरह से शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की सरकार बनी है, उसने राजनीति के बड़े-बड़े धुरंधरों को सोचने पर मजबूर कर दिया है।
इसी दरमियाँ शरद पवार की पार्टी एनसीपी में जिस प्रकार से फूट की खबर आई और एनसीपी के बड़े नेता अजित पवार ने पार्टी से बगावत करके भाजपा के साथ मिलकर सरकार बनाने का प्रयत्न किया, उसके बारे में कई बड़े सवाल खड़े हो गए।

कई विश्लेषकों को यह भी लगा कि शरद पवार की मर्जी से ही यह सारा ड्रामा हुआ था। तो अब इस तरह की अटकलों पर खुद शरद पवार ने बयान दिया है। कुछ मीडिया संस्थानों के साथ अपने इंटरव्यू में शरद पवार ने यह स्वीकार किया है कि उन्हें अपने भतीजे अजीत पवार और भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस के बीच हो रही बातचीत के बारे में जानकारी थी, लेकिन उन्हें यकीन था कि बिना उनकी सहमति के अजित पवार कोई बड़ा कदम नहीं उठाएंगे और इसीलिए जब अजित पवार ने उनकी मर्जी के बिना उप मुख्यमंत्री की शपथ ली, तो वह हैरान रह गए।

इतना ही नहीं, अजीत पवार के बारे में शरद पवार ने यह भी कहा है कि एनसीपी पर उनके भतीजे की भी अच्छी खासी पकड़ है।